धीरे-धीरे बोल कोई सुन न ले।

18 राज्यों में सरकार है,
हिंदुत्व की जय जयकार है।
चारों ओर हाहाकार है,
GST से घायल व्यापार है।

मोदी-मोदी जप रहे,
अमित शाह कै लोग,
जनता हो गई त्रस्त अब,
मिटै न मोदी रोग।

मिटै न मोदी रोग अब,
कौन रहा जितवाय,
कोई कहै ई वी एम का,
अपना लीन्ह बनाय।

साम दाम और दंड सब,
लीन्ह नीति अपनाय,
कैसे भी कुछ भी करो,
सत्ता चली न जाय।

पहले कीचड़ फ़ेंक के,
सत्ता लीन्ह हथियाय,
जुमला शुमला फ़ेंक के,
पब्लिक का लीन्ह रिझाय।

अब जुमला सारे निपट गै,
तो भेद नीति अपनाय,
वोट मोदी को कीजिये,
नहीं तो पकिस्तान बन जाय।

खतरे में हिंदुत्व है,
मोदी ही है आस,
मोदी गया, तो मिट जायेगा
हिन्दू का इतिहास।

पहले राम के नाम पर,
जनता को बनाया मूर्ख,
अब हिंदुत्व के वास्ते,
जनता के वोट की लूट।

गुजरात आ गया मुट्ठी में,
हिमाचल की मिली सौगात!
मीडिया भी धन्य है हो गया,
कर मोदी मन की बात।

कर मुक्त कांग्रेस से भारत को,
देंगे अम्बानी अडानी को सौंप
चले जायेंगे विदेश वास को,
लौटेंगे सन् दो हज़ार उन्नीस।

_ तेज प्रकाश