रावण दहन के पहले…

Standard

राम की रावण पर जय में लोग रावण की चर्चा अधिक क्यों करते हैं, रावण को राम से अधिक महत्व दिया जाना, समाज में मूल्यों की अवनति को दर्शाता है|

भले ही रावण का दहन किया जाता हो, फिर भी राम की अवहेलना हो रही है|

क्या रावण का वध करना कोई सहज है? रावण का वध कोई हंसी खेल नहीं है|
रावण का चरित्र, एक पथभ्रष्ट भक्त का है, जो तपस्या और त्याग में अतुलनीय है, परन्तु लोभ और अहंकार के कारण, पतनोन्मुख होकर, भगवान शिव के आराध्य श्रीराम की पत्नी मॉं सीता का अपहरण कर बैठा, परन्तु उसने मर्यादा का उल्लंघन नहीं किया|

परन्तु रावण कायर है, सीता माता का अपहरण छलपूर्वक करता है, अपने सभी पुत्रों, बन्धु-बान्धवों के मरने तक, भगवान राम से युद्ध करने नहीं आता है, अन्त में जब युद्ध करने पर बाध्य हो जाता है, तब मारा जाता है|

दशशीष होने पर भी एक शीश वाले राम से पराजित होता है, क्योंकि राम गुण, चरित्र और निष्कामता में अद्वितीय मर्यादा पुरुषोत्तम हैं, इसलिये अहंकार, क्रोध, स्वार्थ और लोभ के प्रतीक रावण पर जय प्राप्त करते हैं|

रावण के दुर्गुणों का नाश होने पर, लक्षमण जी को ज्ञान लेने के लिये भेज कर, पारस्परिक विद्वेष की भावना रख कर, ज्ञान का सम्मान किया|

अतः आज जब जब हम रावण का दहन करने के लिये बढ़ें तो पहले सोचें कि रावण कौन है, क्या हमारे आपके अन्दर बैठा विद्वता का अहंकार रावण नहीं है, हमारे समाज की बेटियों को दहेज के नाम पर मारने वाले लोभी लोग क्या रावण नहीं हैं, कन्या के पैदा होने पर,उसे मार देने वाले राक्षस क्या रावण ही नहीं हैं, रावण की भॉति हमारे समाज में बहू-बेटियों के जीवन का संकट बनने वाले रावण नहीं हैं?

इतने रावणों के शेष रहते, लकड़ी, कागज और पटाखों से बने रावण के पुतले को जलाकर, क्या कहीं हम स्वयं को धोखा देने का प्रयत्न नहीं कर रहे हैं?

रावण के अनेक रूपों में से कुछ रूपों को आपने देखा समझा होगा, समाज के हित में उनसे सभी को परिचित कराने हेतु आपके कमेंट्स आमंत्रित हैं…

Tej Prakash, Lucknow, U.P., India

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s